महाराणा अमरसिंह प्रथम की 465वीं जयन्ती

उदयपुर : मेवाड़ के 55वें एकलिंग दीवान महाराणा अमरसिंह प्रथम की 465वीं जयंती महाराणा मेवाड़ चैरिटेबल फाउण्डेशन, उदयपुर की ओर से मनाई गई। सिटी पेलेस म्यूजियम स्थित राय आंगन में मंत्रोच्चारण के साथ उनके चित्र पर माल्यार्पण व पूजा-अर्चना कर दीप प्रज्जवलित किया गया।
महाराणा मेवाड़ चैरिटेबल फाउण्डेशन, उदयपुर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. मयंक गुप्ता ने बताया कि महाराणा अमरसिंह प्रथम का जन्म चैत्र शुक्ल सप्तमी, विक्रम संवत 1616 (वर्ष 1559 ई.) को हुआ था। उनका राज्याभिषेक वि.सं. 1653 माघ शुक्ल एकादशी (वर्ष 1597) को चावण्ड में हुआ। महाराणा बाल्यावस्था से ही अपने पिता महाराणा प्रताप के साथ रहकर मेवाड़ की पहाड़ियों, घाटियों एवं पहाड़ी मार्गों से खूब परिचत हो गये थे, इसी कारण उन्होंने महाराणा प्रताप के साथ मुगलों से अनेक पहाड़ी लड़ाइयां लड़ी। शहजादा सलीम ने महाराणा अमरसिंह के समय मेवाड़ पर दो बार चढ़ाई की परन्तु उसे कोई सफलता नहीं मिली। महाराणा अमरसिंह प्रथम महाराणा प्रताप की तरह स्वतंत्रता की रक्षा के लिये मुगलों से लड़ते रहे और मुगल अधीनता कभी स्वीकार नहीं की।


देश के कई ख्यातनाम इतिहासकारों ने महाराणा अमरसिंह को मेवाड़ कुल और महाराणा प्रताप का सुयोग्य वंशधर बताया। महाराणा बलिष्ठ, पराक्रमी और अपने सरदारों व प्रजा में बहुत ही न्याय प्रिय थे। उनका व्यक्तित्व सभी के साथ मिलनसार था।
मेवाड़ मुगल संधि के बाद अमरसिंह ने प्रशासन में सुधार के लिए योजनागत तरीकों से कई कार्य किये और प्रजा के पुनर्वास की ओर अपना ध्यान दिया। मेवाड़ में लगातार संघर्ष के कारण कई लोगों ने मेवाड़ छोड़ दिया था, उन्हें महाराणा ने मेवाड़ में पुनः आमन्त्रित किया। संघर्षरत रहते हुए भी महाराणा ने मेवाड़ में कला और वास्तुकला को संरक्षण दिया। उन्होंने उदयपुर के राजमहल में अमर महल का निर्माण करवाया था, यही नहीं उन्होंने प्रसिद्ध रागमाला लघु चित्रकला शृंखला का चित्रण भी करवाया।

Related posts:

दो दिवसीय ऑर्थोग्नेथिक वर्कशाप सम्पन्न
स्‍लाइस ने कियारा आडवाणी को बनाया ब्रैंड एंबैसडर
DP World launches ‘SARAL’ afirst-of-its-kinddedicated rail freightservice connecting Hazira to Delhi...
HDFC Bank joins hands with Marriott Bonvoy to launch India’s first co-brand hotel credit card
श्रीजी प्रभु को आरोगाया सवा लाख आम का भोग
मेलोरा ने चार फेस्टिव कलेक्शन्स का लॉन्च किया, देशभर में दे रहा है डिलीवरी
साई तिरूपति विश्वविद्यालय में युवामंथन कार्यक्रम 
जीवन तरंग परियोजना के तहत मूक-बधिर छात्रों के लिए डिजिटल साक्षरता पर सत्र का आयोजन
सुचि सेमीकॉन द्वारा 870 करोड़ रुपये का सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित
जेके टायर को 22 प्रतिशत वृद्धि के साथ अब तक का सर्वोच्च राजस्व लाभ में 31 प्रतिशत की वृद्धि
मेवाड़-वागड़ में मतदान पूर्व का आकलन
जयपुर में राज्यस्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री ने किया मोबाइल वेटरनरी इकाइयों का लोकार्पण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *