आईआईटी एवं स्टैनफोर्ड ग्रैज्युएट्स के एआई पाठ्यक्रम अब उदयपुर में भी

रॉकवुड्स इंटरनेशनल स्कूल ने क्लोन फ्यूचरा से हाथ मिलाया

उदयपुर: उदयपुर के चित्रकूट नगर में स्थित रॉकवुड्स इंटरनेशनल स्कूल ने आईआईटी एवं स्टैनफोर्ड ग्रैड्स के एआई पाठ्यक्रमों को शुरू करने के लिए उदयपुर में कदम जमाने हेतु क्लोन फ्यूचरा के साथ हाथ मिलाया है। इससे यह 10 वर्ष से अधिक की उम्र के छात्रों के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) पाठ्यक्रम शुरू करने वाला उदयपुर का पहला निजी स्कूल बन गया है। अग्रणी एडटेक स्टार्टअप क्लोन फ्यूचरा ने स्टैनफोर्ड ग्रैड्स और आईआईटी एलुमनी के इन पाठ्यक्रमों को क्यूरेट किया है। पहली बार स्कूल आने वाले छात्र 3 महीने की अवधि में मशीन लर्निंग, डेटा साइंस और पायथन जैसे विभिन्न विषय सीखेंगे।
इस अवधि के दौरान छात्र वास्तविक दुनिया की समस्याओं को हल करने और सामाजिक प्रभाव पैदा करने के लिए लाइव परियोजनाओं पर काम करेंगे। विकसित की गई सर्वश्रेष्ठ परियोजनाओं को उच्चतर/उन्नत पाठ्यक्रमों के लिए छात्रवृत्ति दी जाएगी और उन्हें आगामी कई आईआईटी टेक फेस्ट में प्रदर्शित किए जाने का अवसर मिलेगा।
रॉकवुड्स इंटरनेशनल स्कूल के निदेशक श्री दीपक शर्मा का कहना है, ‘‘एआई पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए क्लोन फ्यूचरा के साथ जुडक़र हम बहुत खुश हैं। हमारा यह गठबंधन स्कूल के छात्रों को भविष्य को आकार देने वाली तकनीकों से अच्छी तरह वाकिफ कराएगा। कृत्रिम बुद्धिमत्ता, डेटा एनालिटिक्स जैसी तकनीकों और वैश्विक स्तर पर भारी प्रभाव डालने वाले विशाल डेटा के साथ यह बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है कि स्कूली छात्र नवीनतम घटनाक्रम के प्रति सचेत बने रहें।’’
रॉकवुड्स इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल डॉ. वसुधा नील मणि ने कहा, ‘‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वक्त की जरूरत है। यह स्कूलों का कर्तव्य है कि वे तकनीक के अनुप्रयोग और उसकी सकारात्मकताओं से छात्रों को लैस करें। राजस्थान में इसको संस्थापित करके और बच्चों को आईआईटी वालों से विश्वसनीय परामर्श प्राप्त करने का अवसर देकर हमें गर्व हो रहा है।’’
क्लोन फ्यूचरा की सीईओ विदुषी डागा ने बताया- ‘‘एआई पाठ्यक्रमों के संयोजन और उनको प्रारंभ करने का विचार बच्चों को कम उम्र में ही उन्नत तकनीकों के बारे में जागरूक बनाने, उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने और वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने लायक बनाने की इच्छा से उपजा है। ध्यान रहे कि बच्चे छह साल की उम्र से ही कोड करना सीखने लगते हैं।’’
उन्होंने कहा, ‘‘बच्चों की जिंदगी में तकनीक बहुत बडी भूमिका निभा रही है। अब आप बच्चे से गैजेट दूर नहीं कर सकते। इसलिए एआई वाले गैजेट्स पर बच्चे का समय बिताना उसे सकारात्मक परिणामों की ओर ले जाता है।’’
एआई अब स्मार्टफोनए स्मार्ट कार, सोशल मीडिया फीड, ड्रोन, वीडियो गेम, नेविगेशन तथा ट्रैवल, बैंकिंग व वित्तीय सेवाओं के माध्यम से हमारे रोजमर्रा के जीवन का एक हिस्सा बन गई है, जिसके कारण इसे सीखना अपरिहार्य हो चुका है। दुनिया भर में एआई से काम लेने वाले एज्यूकेशन सेक्टर के 2021 तक 47.5′ बढ जाने की उम्मीद है।

Related posts:

गीतांजली की कैंसर विशेषज्ञ डॉ. रेणु मिश्रा इंडियन मायलोमा कांग्रेस 2023 में आमंत्रित
उदयपुर में पहली बार 28वीं एनुअल कॉन्फ्रेंस ऑफ़ नार्थ जोन इंडियन सोसाइटी ऑफ़ नेफ्रोलॉजी का शुभारंभ
उदयपुर मीडिया अवार्ड का रंगारंग आयोजन
Hindustan Zinc kickstartsShiksha Sambal Summer Camps for over 1500 rural & tribal students
ईवास मॉड्यूलर किचन ने उदयपुर में किया अपनी उपस्थिति का विस्तार
हिंदुस्तान जिंक द्वारा वन महोत्सव के तहत् सघन पौधरोपण
सकल राजपूत महासभा द्वारा राजपूत प्रत्याशियों के समर्थन की घोषणा
तेरापंथ समाज ने मनाया 264 वाँ तेरापंथ स्थापना दिवस
गुलाबी दीदियां - स्वदेशी महिला चेंजमेकर्स डेटॉल बनेगा स्वस्थ इंडिया की मातृ और शिशु मृत्यु दर के खिल...
कार्मिक अकाउंट को जीरो करने का पर्व है पर्युषण : मुनि सुरेशकुमार
RenewBuy closes US$ 40million, as a part of its Series D fund raise, with Japanese insurance major, ...
HINDUSTAN ZINC ANNOUNCES RAJASTHAN'S BIGGEST YOUTH FOOTBALL TOURNAMENT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *