एचडीएफसी बैंक का लाभ 26.8 प्रतिशत बढा

उदयपुर। एचडीएफसी बैंक लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने  मुंबई में आयोजित अपनी मीटिंग में 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही व छमाही के लिए बैंक के परिणामों (इंडियन जीएएपी) का अनुमोदन किया। इस अवधि में बैंक ने 6345 करोड रूपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया है, जो कि गत वर्ष के इसी सत्र के 5005.73 करोड रूपये के मुकाबले में 26.8 प्रतिशत ज्यादा है।
30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए बैंक की कुल आय 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई तिमाही के लिए 28,215.2 करोड़ रु. के मुकाबले 19.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 33,755.0 करोड़ रु. रही। 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही में कुल राजस्व (कुल ब्याज आय एवं अन्य आय) पिछले साल की इसी तिमाही में 15,799.0 करोड़ रु. से 21.1 प्रतिशत बढक़र 19,103.8 करोड़ रु. हो गया। 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए कुल ब्याज आय (अर्जित ब्याज में से खर्च किया गया ब्याज घटाने से प्राप्त) 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई तिमाही के लिए 11,763.4 करोड़ रु. से 15.0 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 13515.0 करोड़ रु. रही। तिमाही के लिए मुख्य कुल ब्याज मार्जिन 4.2 प्रतिशत रहा।
30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए अन्य आय (गैर ब्याज राजस्व) 5,588.7 करोड़ रु. थी, जो कुल राजस्व का 29.3 प्रतिशत थी तथा 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई इसी तिमाही के लिए 4015.6 करोड़ रु. के मुकाबले 39.2 प्रतिशत ज्यादा थी। 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए अन्य आय के चार मद थे – 4054.5 करोड़ रु. के शुल्क एवं कमीशन (पिछले साल की इसी तिमाही में 3295.6 करोड़ रु.); 551.7 करोड़ रु. के  विदेशी एक्सचेंज एवं डेरिवेटिव्स (पिछले साल की इसी तिमाही के लिए 419.8 करोड़ रु.), निवेश की बिक्री/पुर्नमूल्यांकन पर 480.7 करोड़ रु. का लाभ (पिछले साल की इसी तिमाही के लिए 32.8 करोड़ रु. का नुकसान) एवं मिश्रित आय, जिसमें 502.0 करोड़ रु. की रिकवरी एवं डिवीडेंड शामिल है (पिछले साल की इसी तिमाही के लिए 333.0 करोड़ रु.)।
30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए ऑपरेटिंग खर्च, 7405.7 करोड़ रु. के थे, जो पिछले साल की इसी तिमाही में 6,299.1 करोड़ रु. के मुकाबले 17.6 प्रतिशत ज्यादा थे। तिमाही के लिए मुख्य आय-व्यय अनुपात 38.8 प्रतिशत था, जो 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई तिमाही के लिए 39.9 प्रतिशत था।
प्रि-प्रोविजऩ ऑपरेटिंग प्रॉफिट (पीपीओपी) पिछले साल की इसी तिमाही से 23.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,698.1 करोड़ रु. थे।
30 सितंबर, 2019 को कॉन्टिंजेंसीज़ एवं प्रोविज़ंस 2700.7 करोड़ रु. के थे (जिनमें 2038.0 करोड़ रु. के स्पेसिफिक लोन लॉस प्रावधान तथा 662.7 करोड़ रु. के सामान्य प्रावधान एवं अन्य प्रावधान शामिल हैं), जो 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई तिमाही के लिए 1820.0 करोड़ रु. (जिनमें 1572.5 करोड़ रु. के स्पेसिफिक लोन लॉस प्रावधान तथा 247.5 करोड़ रु. के सामान्य प्रावधान एवं अन्य प्रावधान शामिल हैं) थे। 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए मुख्य प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीपीओपी में से स्पेसिफिक लोन लॉस प्रावधान घटाने से प्राप्त) 22.2 प्रतिशत ज्यादा रहा।  सामान्य एवं अन्य प्रावधानों के बाद 30 सितंबर, 2019 को समाप्त हुई तिमाही के लिए पीबीटी 8997.4 करोड़ रु. रहा।
टैक्सेशन के लिए 2,652.4 करोड़ रु. देने के बाद बैंक ने 6,345.0 करोड़ रु. का कुल लाभ अर्जित किया, जो 30 सितंबर, 2018 को समाप्त हुई तिमाही के मुकाबले 26.8 प्रतिशत ज्यादा था।

Related posts:

अब बच्चे, किशोर, वयस्क और पेशेवर कामगार उदयपुर में ही सीख सकेंगे फ्रेंच भाषा, प्रमाण-पत्र भी मिलेगा 
प्रताप के शौर्य और पराक्रम से सीख ले युवा पीढ़ी : मुख्यमंत्री
स्केलेटल डिस्प्लासिए नामक दुर्लभ बीमारी का सफल इलाज
दुर्घटना  के  शिकार 111  दिव्यांगों को लगे कृत्रिम हाथ-पैर
एचडीएफसी बैंक के बेहतर कार्य परिणाम
नारायण सेवा में योगाभ्यास
Radisson Blu Palace Resort & Spa, Udaipur, upscales guests’ recreational experiences with its newly ...
Flipkart hosts the fifth edition of its flagship sale event ‘Crafted by Bharat’ - celebrating India'...
Sunil Duggal, CEO, Hindustan Zinc appointed Interim CEO, Vedanta Limited
रॉकी और मयूर ने पूरे राजस्थान में की रोड ट्रिप, उदयपुर के ओयो होटलों में सेनिटाइज़्ड स्टे का किया अनु...
जिंक फुटबॉल अकादमी ने अपने गढ़ ज़ावर में जीत हासिल की, राजस्थान लीग 2023-24 के पहले घरेलू मैच में दब...
हिन्दुस्तान जिंक के शिक्षा संबल कार्यक्रम में अध्ययनरत विद्यार्थियों का उत्कृष्ठ रहा परिणाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *