महिला दुग्ध किसानों ने आईडीएफ वल्र्ड डेयरी समिट 2022 में अपनी शक्ति दिखाई

उदयपुर। राजस्थान के लाखों डेयरी किसानों, मुख्य रूप से महिलाओं ने मूल्यवर्धित डेयरी उत्पादों में अपनी जगह बनाने का संकल्प प्रदर्शन किया, जो आईडीएफ वल्र्ड डेयरी समिट में वैश्विक डेयरी क्षेत्र के सामने प्रदर्शित हुआ। इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। इन संगठनों में से दो संगठन सखी और आशा क्रमश: अलवर और उदयपुर क्षेत्रों की ग्रामीण महिलाओं द्वारा बनाई गई हैं, जबकि चार उत्पादक संगठनों में सबसे बड़ा पायस जयपुर के गुलाबी शहर से है; जिसमें लगभग 170,000 हितधारकों के संयुक्त स्वामित्व के साथ मरुस्थल राज्य राजस्थान के लगभग 5,000 गांवों की 110,000 महिला सदस्य शामिल थीं।
नरेन्द्र मोदी की इस टिप्पणी को प्रतिबिंबित किया गया कि डेयरी क्षेत्र में महिलाओं का 70 प्रतिशत से अधिक का योगदान है। आशा ने मरुधरा पनीर और दही का अनावरण किया, जबकि सखी अलवर से गाय का घी लेकर आई, जो न केवल सरिस्का टाइगर सेंचुरी के लिए एक बड़ा पर्यटन स्थल है, बल्कि लोकप्रिय मिठाई मिल्क केक के लिए भी जाना जाता है जबकि पायस ने शेखावाटी की गाय बेल्ट की संगठन के नाम पर प्रीमियम घी पेश किया। इन सभी ने इन उत्पादों को राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के अध्यक्ष मीनेश शाह के सामने प्रस्तुत किया। उन्होंने राज्य के इन दूध उत्पादकों की भूमिका की सराहना की, जो एक साथ आए और लगभग 1,600 करोड़ रुपये का वार्षिक कारोबार करने के लिए प्रति दिन लगभग 9,00,000 लीटर दूध की आपूर्ति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चार में से तीन उत्पादक संगठन पूरी तरह से राज्य की महिलाओं के हैं। उन्होंने संगठन के निर्माण में मार्गदर्शन और मदद करने के लिए राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड और इसकी सहायक एनडीडीबी डेयरी सेवाओं को धन्यवाद दिया और एनडीडीबी के अध्यक्ष, मीनेश शाह और एनडीएस के एमडी, डॉ सौगत मित्रा को महिलाओं से अच्छे ब्रांड के उत्पाद की भविष्य में पेशकश करने का रास्ता दिखाया।
आशा की चेयरपर्सन कन्या ने शिखर सम्मेलन में कहा कि हम सही मायने में खुद को एक बदलाव एजेंट के रूप में स्थापित करेंगे और राजस्थान और अपने देश भर में डेयरी क्षेत्र की सभी महिलाओं की प्रेरणा लिए भी खड़ी रहूंगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण महिलाएं दुनिया को सामूहिक प्रयास की ताकत दिखाने के लिए एक साथ आई हैं। किसी ने यह कभी नहीं सोचा था कि हम समाज में एक सामाजिक और आर्थिक स्थिति तक पहुंच सकते हैं। हमारी महिला केवल दूध उत्पादक संगठन में ही आगे नहीं हैं इसके अलावा मैं, मरुधारा के उत्पादों जो रेगिस्तान में एक मरुउद्यान का प्रतीक है उसे भी सभी के सामने लाती हूँ ।
आशा के मुख्य कार्यकारी धर्मेंद्र मलिक ने कहा कि न्यू लॉन्च की गई मरुधरा पनीर और मरुधरा दही को उदयपुर और उसके आसपास संस्था से जुड़ी लगभग 28,000 महिला डेयरी किसानों से सीधे खरीदे गए दूध से बनाया जाएगा और इस दूध से बनाये गए नए उत्पाद उदयपुर, पाली, सिरोही, जालौर आदि क्षेत्रों में भी उपलब्ध कराए जाएंगे। सखी की अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि राजस्थान के पिछड़े मेवात क्षेत्र के 4 जिलों के 800 गांवों से लगभग 40,000 लोगों से हर दिन 150,000 लीटर दूध एकत्र किया जायेगा और दूध उत्पादन में गांव की ताकत को एक साथ जोडक़र हर दिन हजारों ग्राहकों तक दूध पहुंचने के लिए मार्केटिंग आउटरीच में, सखी ने मोबाइल वेंडिंग मशीनों पर कई साहसिक कदम उठाए हैं, जो अलवर के नागरिक और वाणिज्यिक क्षेत्रों में उच्च गुणवत्ता वाले दूध केक के लिए प्रसिद्ध है। सखी संगठन की महिला सदस्यों की समझदारी को प्रदर्शित करता है बड़े डेयरी सेक्टर के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए नए सदस्यों और अधिक गांवों के साथ डेयरी सेक्टर में विकास करें और ‘ताजा और स्वस्थ’ पेशकशों से जुड़ी अपनी पहचान भी बनाएं।
सखी के मुख्य कार्यकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि गाय के घी दिल्ली एनसीआर और राजस्थान में अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट पर 1 लीटर का पैकेज में 700 रुपये में उपलब्ध होगा। पायस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आरके सिंह ने कहा कि पायस राज्य का सबसे पुराना उत्पादक हैं जो लगभग एक लाख लोगों से लगभग 40 प्रतिशत महिला हितधारकों के साथ, 6.5 लाख लीटर से अधिक दूध की खरीद करता है और इसका सालाना कारोबार 1,200 करोड़ रु. हैं। पायस की प्रगतिशील अध्यक्ष ममता चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्रीजी ने वैश्विक डेयरी उद्योग के सामने देश में दूध उत्पादन में महिलाओं के योगदान की सराहना की है। हम ख़ुशी से अभिभूत हैं की राज्य डेयरी सेक्टर में तेजी से विकास कर रहे हैं और डेयरी किसानों के ध्वजवाहक बनना हमारी डेयरी सेक्टर के लिए सम्मान की बात होगी।

Related posts:

बीजेएस संगठन नहीं एक विचारधारा है : लूंकड़
Vedanta Chairman Anil Agarwal conferred with Mumbai Ratna Award
सफल होने के लिए मन की एकाग्रता जरूरी: संजय शास्त्री
Hindustan Zinc commits to CEO Water Mandate
नौ दिवसीय रामकथा का आयोजन 3 जून से
लेकसिटी प्रेस क्लब: सांस्कृतिक संध्या में पत्रकार परिवार के साथ शामिल हुए
आईआईएचएम इंस्टीट्यूट ऑफ हॉस्पिटैलिटी स्किल्स (आईआईएचएस) के उदयपुर में सबसे बड़े प्रशिक्षण केंद्र का ...
वित्त वर्ष 2024 की पहली तिमाही में जेके टायर के शुद्ध लाभ में उछाल
सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा अभियान के तहत सीपीआर फर्स्ट एड प्रशिक्षण कार्यशाला एवं सम्मान समारोह आयोजित
हिन्दुस्तान जिंक स्थापित करेगा 100 बेड का एयरकंडीशन अत्याधुनिक कोविड फील्ड हाॅस्पीटल
विश्व स्तनपान सप्ताह के दूसरे दिन संगोष्ठी आयोजित
क्रिसमस उत्सव धूमधाम से मनाया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *