खाताबुक ने एंड्रॉइड पर ‘माईस्टोर’ ऐप लॉन्च किया

उदयपुर। भारत के सबसे तेज़ी से बढ़ते हुए फिनटेक स्टार्ट-ऐप में से एक खाताबुक ने एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करते हुए एंड्रॉइड पर ‘माईस्टोर’ ऐप लॉन्च किया है। ऐप की साइन-अप प्रक्रिया बेहद आसान है। इसके साथ ही यह एक शानदार अनुभव और सुरक्षित इंटरफेस देता है। इसी कारण व्यापारी महज़ 15 सेकंड में अपने बिज़नेस को ऑनलाइन ला सकते हैं। खाताबुक का ‘माईस्टोर’ ऐप 13 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है जिस कारण इसका इस्तेमाल करना आसान हो जाता है और यह पैन-इंडिया स्वीकरण रखता है। इस ऐप से व्यापारी सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखते हुए भी अपना बिज़नेस जारी रख सकते हैं। अभी तक भारत के 25 लाख से ज़्यादा व्यापारी माईस्टोर ऐप डाउनलोड कर चुके हैं। अनुमान है कि इस ऐप की यूज़र प्रोफाइल सिनर्जी, फ्लैगशिप खाताबुक ऐप के यूज़र बेस के एक तिहाई से ज़्यादा होगी।
खाताबुक के सह-संस्थापक और सीईओ रवीश नरेश ने कहा कि भारत के एमएसएमई सेगमेंट की दक्षता में सुधार करने और बिज़नेस चलाने की लागत को कम करने की दिशा में लगातार प्रयास कर रहे हैं। ‘माईस्टोर’ का लॉन्च हमारे मौजूदा प्रस्ताव पर आधारित है और डिजिटल क्रांति की इस दुनिया में बिज़नेस करने के ज़्यादा विकसित तरीके देने के लिए एक मज़बूत तकनीक की बुनियाद रखता है। खासतौर पर आज छोटे बिज़नेस के पास ऐसे साधन हैं जिनकी ज़रुरत उन्हें इस महामारी में भी अपना बिज़नेस जारी रखने के लिए पड़ेगी। माईस्टोर ऐप को अपनाना इस बात की तरफ इशारा करता है कि जो ऑफ़. लाइन बिज़नेस डिजिटल परिवर्तन चाहते हैं उनके लिए यह बेहतर और समय बचाने वाला समाधान है।
माईस्टोर ऐप के साथ शुरुआत करना बेहद आसान है :
1-ऐप डाउनलोड करें
2-अपने बिज़नेस की जानकारी, जैसे कि नाम, प्रॉडक्ट और कीमत आदि डालें
3-अपने पसंदीदा कम्युनिकेशन चैनल के ज़रिए ग्राहक को स्टोर लिंक भेजें और बेचना शुरू करें
खाताबुक भारतभर के छोटे बिज़नेस के मालिकों को आधुनिक समाधान देने के साथ-साथ डिजिटल भविष्य की तैयारी करने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। महीने के 80 लाख सक्रिय यूज़र बेस के साथ कंपनी ने पारंपरिक बही-खाता प्रक्रिया को पूरी तरह से स्वचालित करके एमएसएमई उद्योग को अलग दिशा दे दी है। यह ऐप किराना स्टोर से लेकर मोबाइल रिचार्ज की दुकानों, कपड़ा व्यापारियों से लेकर ज्वैलर्स तक, देशभर में 500 से ज़्यादा तरह के बिज़नेस को अपनी सेवा प्रदान करता है। ऐप रोज़ाना अपने हर यूज़र के 2-4 घंटे बचाने में मदद करता है।

Related posts:

Contract Workforce to benefit from Hindustan Zinc’sGroup Corona Kavach policyfor Business Partners
टाटा ब्लूस्कोप स्टील ने लांच किया ड्यूराशाइन कैम्पेन
Hindustan Zinc ‘Investing in our Planet’ for a sustainable future
HDFC Bank Limited signs multi-year software development contract with FYNDNA Techcorp Private Limite...
जेके टायर की नेतृत्व टीम ने वेतन भुगतान में स्वैच्िछक कटौती की
वीराम सिक्योरटीज़ ने रियलटी क्षेत्र की ओर कदम बढ़ाए
पिम्स इंस्टीट्यूट ऑफ कम्प्युटर साईन्स ने लांच किया बीसीए कोर्स
प्रदेश के लिये हिंदुस्तान जिंक ने उपलब्ध कराएं 500 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर
अमेजऩ इंडिया 15 से 18 अप्रैल तक ‘संभव’ समिट के दूसरे संस्करण का आयोजन करेगा
रेनेडी सिंह, ओइनम बेमबेम देवी तथा शाजी प्रभाकरन ने किया जिंक फुटबॉल अकादमी का दौरा
TRANSFORMING FARMING WITH MODERN TECHNOLOGY – HINDUSTAN ZINC’S SAMADHAN PROJECT
Veeram Securities Ltd Breaks All Barriers Stock price Zooms 76 percent in a month

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *