एमकेएम फुटबॉल टूर्नामेंट के फाइनल में दून स्टार एफसी, देहरादून ने एस.टी.एफ.सी, कश्मीर को हरा कर जीता टूर्नामेंट, अंतिम समय में दागा एक गोल

जिंकसिटी में 44वें संस्करण का समापन, 10 दिनों के भव्य एमकेएम टूर्नामेंट में देश भर से भाग लेने वाली 12 टीमों ने रोमांचक प्रदर्शन किया, 25 हजार से अधिक दर्शक ने लिया मैचों का आनंद

मुख्य अतिथि, पूर्व भारतीय टीम फुटबॉलर और सचिव, तेलंगाना फुटबॉल एसोसिएशन गणपति पालगुना, और जावर ग्रुप ऑफ माइन्स के आईबीयू सीईआ राम मुरारी, ने विजेता टीम को एमकेएम ट्रॉफी सौंपी

उदयपुर। राज्य की सबसे बड़ी युवा खिलाडियों की प्रतियोगिताओं में से एक, एमकेएम फुटबॉल टूर्नामेंट ने अपने 44वें संस्करण का जावर के एमकेएम स्टेडियम में सफलतापूर्वक समापन किया, जिसमें दून स्टार एफसी देहरादून की टीम विजयी रही। जावर में एमकेएम फुटबॉल टूर्नामेंट का उद्घाटन 20 जनवरी को समारोह के साथ शुरू हुआ। जावर माइंस मजदूर संघ के सहयोग से हिंदुस्तान जिंक द्वारा आयोजित 10 दिवसीय फुटबॉल टूर्नामेंट में देश भर से भाग लेने वाली 12 टीमों ने शानदार प्रदर्शन किया। इस टूर्नामेंट ने जिंक सिटी में फुटबॉल की सच्ची भावना और सामुदायिक जुड़ाव को प्रदर्शित किया।

समापन समारोह में मजदूर संघ के महामंत्री लालू राम मीणा, आयोजन सचिव , दीपक गखरेजा सहित अन्य सम्मानित गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। बहुप्रतिष्ठित एमकेएम ट्रॉफी एसटीएफसी कश्मीर के खिलाफ रोमांचक फाइनल के बाद अंतिम कुछ मिनटों में 1 गोल दाग कर विजयी रही टीम दूनस्टार एफसी देहरादून को प्रदान की गई। दून स्टार एफसी, देहरादून और बी.एस.एफ, सिलीगुडी के बीच सेमीफाइनल मुकाबला हुआ, जहां दून स्टार एफसी विजयी होकर उभरा, और चैंपियनशिप मैच में अपनी जगह बनाई।

समारोह में खिलाडियों का उत्साहवर्धन करते हुए गणपति पालगुना ने कहा कि, “एमकेएम फुटबॉल टूर्नामेंट में इतनी बड़ी संख्या में दर्शकों की उपस्थिति और उत्साहवर्धन करते देखना बहुत बड़ी उपलब्धि है। मुझे उम्मीद है कि यह फुटबॉल के भविष्य के खिलाडियों के लिए एक महत्वपूर्ण मंच और भारतीय फुटबॉल के लिए नए रिकॉर्ड बनाएगा।

इस अवसर पर हिंदुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं वेदांता के कार्यकारी निदेशक, अरुण मिश्रा ने कहा कि एमकेएम टूर्नामेंट न केवल फुटबॉल के प्रति जुनून को प्रदर्शित करता है, बल्कि जिंकसिटी में एकता और सद्भावना का प्रमाण भी है। जिंकसिटी में देश भर से 12 टीमों की मेजबानी करना हमारे लिए सौभाग्य की बात है, जिससे मैत्री और खेल कौशल के लिए मंच तैयार हुआ।  हिंदुस्तान जिंक जमीनी स्तर पर खेलों को बढ़ावा देने सहित विभिन्न पहलों के माध्यम से अपने परिचालन क्षेत्रों में और उसके आसपास समुदायों के उत्थान के महत्व को लगातार अग्रणी है। हम जिंकसिटी में कला, संस्कृति और एकता को बढ़ावा देने वाले हर उत्सव का गर्व से सहयोग करते हैं।

इस वर्ष के टूर्नामेंट में 25 हजार से अधिक दर्शकों की भागीदारी देखी गई, जो जिंकसिटी में एमकेएम फुटबॉल टूर्नामेंट की स्थायी लोकप्रियता को दर्शाता है। हिंदुस्तान जिंक खेलों से जुड़ा हुआ है और लगभग 4 दशकों से खेलों को बढ़ावा दे रहा है, कंपनी ने 1976 में राजस्थान के जावर में अपना फुटबॉल स्टेडियम बनाया था। एमकेएम टूर्नामेंट सामुदायिक एकता और सामुदायिक जुड़ाव का प्रतीक बन गया है, जो महत्वपूर्ण मंच के रूप में उभर रहा है।

Related posts:

पिम्स हॉस्पिटल में चार वर्षीय बच्चे के मोतियाबिन्द का सफल ऑपरेशन
सनस्टोन का लाभ अब मेवाड़ विश्वविद्यालय में उपलब्ध
एचडीएफसी बैंक एवं लुलु एक्सचेंज में साझेदारी
पत्रकारों के भूखंड आवंटन के लिए यूआईटी द्वारा ई-लॉटरी प्रक्रिया सम्पन्न
संयुक्त निदेशक डॉ. शर्मा ने संभाला कार्यभार
पेप्सी ने रणवीर सिंह के साथ एक ब्लॉकबस्टर गठजोड़ की घोषणा की
HIGHEST NUMBER OF PATIENTS EXAMINED FOR ORAL CANCER ON THE OCASSION OF WORLD CANCER DAY
वाणी को वीणा बनाए तो संबंधों में मिठास उतर आती है : मुनि सुरेशकुमार
विश्व प्रतिमा दिवस पर जनाना महल में हुई कार्यशाला
नारायण सेवा संस्थान का 41वां दिव्यांग सामूहिक विवाह
Hindustan Zinc Wins ‘Company with Great Managers’ Award for the third time in a row
हिन्दुस्तान जिंक द्वारा जिंक स्मेल्टर देबारी में सखी उत्सव आयोजित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *