उदयपुर में 9वां सीपीए भारत क्षेत्र सम्मेलन प्रारंभ

लोकतांत्रिक संस्थाओं को सुदृढ़ करने में सीपीए का अभूतपूर्व योगदान : लोकसभा अध्यक्ष
सीपीए इंडिया के प्रयास लोकतंत्र और सुशासन होगा मजबूत : मुख्यमंत्री
लोकतंत्र में विधायिका व कार्यपालिका में समन्वय अनिवार्यः डॉ सीपी जोशी
जनप्रतिनिधियों को अधिक उत्तरदायी बनाने, डिजिटल इकोनोमी, लोकतंत्र सुदृढ़ करने सहित विभिन्न विषयों पर हुई चर्चा

उदयपुर। राष्ट्रमण्डल संसदीय संघ (सीपीए) का 9वां भारत क्षेत्र सम्मेलन सोमवार से झीलों की नगरी उदयपुर में शुरू हुआ। सम्मेलन में लोकतांत्रिक संस्थाओं की मजबूती, जनप्रतिनिधियों को अधिक उत्तरदायी बनाने, डिजिटल सशक्तिकरण से गुड गवर्नेंस जैसे महत्वपूर्ण बिंदुओं पर मंथन प्रारंभ हुआ।
सीपीए भारत क्षेत्र सम्मेलन के तहत प्रथम दिन होटल ताज अरावली में सीपीए कार्यकारी समिति की बैठक हुई। इसके पश्चात सभी अतिथि होटल अनंता पहुंचे वहां उद्घाटन सत्र हुआ। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह, राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी सहित अन्य अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलन कर सम्मेलन का शुभारंभ किया।
सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि राजस्थान की धरती अध्यात्म और समर्पण की धरती है। मेवाड़ का महत्व पूरे विश्व में है। उन्होंने बताया कि वर्ष 1911 में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की स्थापना हुई थी, तब इसमें 57 देश थे। इसके बाद निरंतर इसका विस्तार होता गया। इस संघ ने लोकतांत्रिक संस्थाओं को सुदृढ़ करने में अभूतपूर्व योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि भारत का लोकतंत्र मजबूत है, यहां सदियों से लोकतंत्र की परंपरा रही है। आज देश की आबादी विश्व में सबसे अधिक है। इसके अलावा हम सबसे बड़ा लोकतंत्र भी हैं। देश में काफी विविधता विद्यमान है जिस वजह से हमारी चुनौती और बढ़ जाती है। आज संसदीय संस्थाओं में संवाद का स्तर गिरा है, सदन में गरिमा जरूरी है। कई विधानसभाओं ने पेपरलेस होने की दिशा में कदम बढ़ाए हैं और कई विधानसभा अपने कार्यवाहियों को ऑनलाइन कर रही है जो अच्छा कदम है।

योजनाओं में आई.टी के उपयोग और इनोवेशन में राजस्थान देश में अग्रणी : मुख्यमंत्री
सम्मेलन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सीपीए इंडिया लोकतांत्रिक प्रणाली की मजबूती के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कर विचारों और नवाचारों से लोक कल्याण की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। सम्मेलन के जरिए विशेषज्ञों के विचारों से जनप्रतिनिधियों का ज्ञानवर्द्धन होगा, जिससे हमारा लोकतंत्र और सुशासन अधिक मजबूत होगा। उन्होंने सीपीए राजस्थान शाखा की मेजबानी में हुए सम्मेलन में कहा कि डिजिटल युग में लोकतंत्र की मजबूती, गुड गवर्नेंस और देश निर्माण में जनप्रतिनिधियों की भूमिका के लिए सम्मेलन उपयोगी साबित होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा देश में कम्प्यूटर इस्तेमाल को मिशन मोड पर लिए जाने से ही आज गुड गवर्नेंस सुनिश्चित हो सकी है। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उन्होंने राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.सी.पी. जोशी द्वारा राजस्थान में सीपीए की गतिविधियों और विधानसभा में किए गए अभिनव प्रयासों की भी सराहना की।


गहलोत ने कहा कि आईटी का योजनाओं में सर्वश्रेष्ठ उपयोग और नए इनोवेशन करने में राजस्थान देश में अग्रणी राज्य बन गया है। राजस्थान में सामाजिक सुरक्षा की योजनाएं प्रत्येक पात्र व्यक्ति तक पहुंचाने में आईटी की बड़ी भूमिका है। लगभग 80 हजार ई-मित्र केंद्रों से 550 से अधिक सेवाओं को आमजन तक पहुंचाया जा रहा है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, गैस सिलेंडर सब्सिडी, इंदिरा गांधी स्मार्टफोन योजना का सीधा लाभ (डीबीटी) भी आईटी से ही सम्भव हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में राजीव गांधी फिनटेक डिजिटल इंस्टीट्यूट, राजीव गांधी सेंटर ऑफ एडवांस्ड टेक्नोलॉजी के जरिए प्रदेश में इनोवेशन हब विकसित किया जा रहा है। राजस्थान न्यूनतम आय गारंटी और गिग वर्कर्स कानून भी राज्य में आईटी से ही आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल में 350 से अधिक वीडियो कॉन्फ्रेंस करके ही राजस्थान कोविड मैनेजमेंट में देश-दुनिया में मॉडल स्टेट बना।
इससे पहले विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी पी जोशी ने सभी अतिथियों का शाब्दिक स्वागत करते हुए सीपीए के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि सीपीए का मुख्य उद्देश्य प्रजातंत्र को सुदृढ़ बनाना है। इसके माध्यम से संसद प्रमुख तथा विभिन्न राज्यों की विधायिका के प्रमुख, जनप्रतिनिधिगण आदि मिलकर लोकतंत्र की मजबूती के लिए मंथन करते हैं। कॉमन नीति बनाकर उस पर अमल करते हैं, इससे लोकतंत्र को सुदृढ बनाने में मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया, भेरोसिंह शेखावत आदि ने पार्लियामेंट्री डेमोक्रेसी के लिए जो कार्य किये है वे अनुकरणीय हैं। इस कॉन्फेंस के लिए उदयपुर का चयन होना गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि संसदीय लोकतंत्र के माध्यम से हमने देश को आगे बढ़ाने का कार्य किया है। जनता की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए सदन पूरा चले और सदन प्रभावशाली होगा तो नीतियां बनेगी और राष्ट्रहित में उपयोगी साबित होगी। सदन पूरा नहीं चलता तो इससे देश और लोकतंत्र दोनों को नुकसान होता है। सीपीए के माध्यम से उन नीतियों पर मंथन होगा कि सदन को कैसे सुगमतापूर्वक चलाया जाए, ताकि आमजन के हितों के मुताबिक नीति-नियमों का निर्धारित किया जा सके।


राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने कहा कि आज के युग में टेक्नोलॉजी का रोल बढ़ा है। आज की दुनिया तकनीक से संचालित है। भारत के पास तेज गति से बढ़ने का अवसर है। तकनीक से ट्रांसपरेंट प्रशासन बना है और भ्रष्टाचार कम हुआ है। आज देश में रेवेन्यू रिकॉर्ड ऑनलाइन हो रहे हैं। आईटीआर रिटर्न में भी उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है। हाल ही में जी20 सम्मेलन में भी डिजिटल इकोनामी पर चर्चा हुई है। हम सभी को चाहिए कि एक दूसरे के प्रयोगों से सीखें। हम सभी को एक दूसरे की क्षमता संवर्धन में कार्य करना है।
सीपीए मुख्यालय के चेयरपर्सन इयान लिडेल ग्रेंजर ने कहा कि राजस्थान की धरती पर आना एक अच्छा अवसर है। हम सभी एक परिवार हैं। सीपीए सम्मेलन के दौरान हम सभी को एक दूसरे के विचारों को साझा करते हुए सीखने का अवसर मिलेगा। उन्होंने कहा कि आज विश्व के सामने आतंकवाद, सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियां विद्यमान है। उन्होंने कहा कि उन्हें यहां का आथित्य सत्कार बहुत पसंद आया। विचारों को साझा करना निरंतर जरूरी है, यही आपकी सफलताएं तय करता है और इसी से समस्याओं का समाधान मिलता है।
समारोह को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजस्थान विविधता में एकता का संदेश देता है। देश का लोकतंत्र गत वर्षा में मजबूत हुआ है। देश की भलाई के लिए राज्यों के मध्य समन्वय जरूरी है।  
सीपीए राजस्थान के सचिव श्री संयम लोढ़ा ने अंत में सभी का आभार व्यक्त किया और राजस्थान सी के द्वारा किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला।
सम्मेलन में लोकसभा के महासचिव श्री उत्पल कुमार सिंह और राजस्थान विधानसभा के प्रमुख सचिव श्री महावीर प्रसाद शर्मा सहित देश की विभिन्न विधानसभाओं के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, विधान परिषदों के सभापति, उपसभापति, सचिव, राजस्थान सरकार के मंत्रीगण और विधायकों सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
समारोह में अतिथियों ने राजस्थान विधानसभा में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की राजस्थान शाखा द्वारा आयोजित किए गए विविध कार्यक्रमों और कार्यशालाओं पर आधारित कॉफी टेबल बुक का विमोचन भी किया गया। इसी प्रकार कार्यक्रम में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की राजस्थान शाखा के कार्यक्रमों पर आधारित एक डॉक्यूमेंट्री का भी प्रदर्शन किया गया।  

Related posts:

HDFC Bank opens 100 new branches across India
उदयपुर के छात्रों का 2023 -24 ओलंपियाड पुरस्कारों में उत्कृष्ट प्रदर्शन
डॉ. लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ उन महाराणा प्रताप के वंशज हैं जिन्होंने अपना सर्वस्व सनातन धर्म की रक्षा, स...
महिला बंदियों के साथ मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस
एआईसीसी मेंबर दिनेश खोडनिया का समाजों और संस्थाओं ने किया भव्य अभिनंदन
उदयपुर संसदीय क्षेत्र से भाजपा के मन्नालाल रावत विजयी
थावर को पक्का मकान देगा नारायण सेवा संस्थान
Hindustan Zinc Raises Awareness on Organ Donation in Ajmer
पर्युषण महापर्व प्रकाश के अवतरण का पर्व है : साध्वीश्री डॉ. परमप्रभा
निशुल्क दंत परामर्श एवं चिकित्सा शिविर आयोजित
गणपति पूजन और हल्दी- मेंहदी की रस्म के साथ शुरू हुआ दिव्यांग विवाह
शिव नारायण ज्वैलर्स ने 8 गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स® जीत कर इतिहास रच...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *