बीकाजी फूड्स इंटरनेशनल लि. की आरंभिक सार्वजनिक पेशकश 03 नवंबर को खुलेगा

मूल्य बैंड 285 रूपये से 300 रूपये प्रति इक्विटी शेयर पर निर्धारित किया गया है
उदयपुर।
बीकाजी फूड्स इंटरनेशनल लि. भारत की तीसरी सबसे बड़ी एथनिक स्नैक्स कंपनी है, जिसकी उपस्थिति अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर है। यह भारतीय स्नैक्स और मिठाइयां बेचती है, और भारतीय संगठित स्नैक्स बाजार में दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती कंपनी है। इसने अपने पहले सार्वजनिक पेशकश के लिए मूल्य बैंड 285 रू. से 300 रू. प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। कंपनी का आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (‘आईपीओ’ या ‘ऑफर’) निवेश के लिए गुरुवार, 03 नवंबर, को खुलेगा और सोमवार, 07 नवंबर को बंद होगा। निवेशक न्यूनतम 50 इक्विटी शेयरों के लिए और उसके बाद 50 इक्विटी शेयरों के गुणकों में बोली लगा सकते हैं। एक रुपये प्रति इक्विटी शेयर के अंकित मूल्य वाला निर्गम पूरी तरह से मौजूदा शेयरधारकों और प्रमोटर समूह की संस्थाओं द्वारा 29,373,984 तक की बिक्री का प्रस्ताव (ओएफएस) है।
बिक्री की पेशकश में शिव रतन अग्रवाल के 2,500,000 इक्विटी शेयर्स, दीपक अग्रवाल के 2,500,000 इक्विटी शेयर्स (‘द प्रमोटर सेलिंग शेयरहोल्डर्स’), इंडिया 2020 महाराजा लि. के 12,110,967 इक्विटी शेयर्स, इंटेंसिव सॉफ्टशेयर प्रा. लि. के 50,000 इक्विटी शेयर्स, आईआईएफएल स्पेशल अपॉर्चुनिटीज फंड के 3,110,056 इक्विटी शेयर्स, आईआईएफएल स्पेशल ऑपच्र्युनिटीज फंड-सीरीज 2 के 1,995,552 इक्विटी शेयर्स, आईआईएफएल स्पेशल ऑपच्र्युनिटीज फंड-सीरीज 3 के 976,179 इक्विटी शेयर्स, आईआईएफएल स्पेशल अपॉर्चुनिटीज फंड-सीरीज 4 के 2,753,339 इक्विटी शेयर्स और आईआईएफएल स्पेशल ऑपच्र्युनिटीज फंड-सीरीज 5 (‘आईआईएफएल फंड्स’) के 2,162,226 इक्विटी शेयर्स, एवेंडस फ्यूचर लीडर्स फंड के 1,215,665 इक्विटी शेयर्स (‘बेचने वाले शेयरधारक निवेशक’) शामिल हैं।
शिव रतन अग्रवाल ने 1993 में बीकाजी ब्रांड का शुभारंभ किया था और राजस्थान, असम और बिहार के एथनिक स्नैक्स मार्केट में इसने मार्केटलीडरशिप और पहुँच स्थापित किया है। 30 जून, 2022 तक 23 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों में संचालन के साथ बीकाजी ने धीरे-धीरे पूरे भारत में अपने पदचिह्न का विस्तार किया है और उत्तरी अमेरिका, यूरोप, मध्य पूर्व, अफ्रीका और एशिया प्रशांत सहित 21 देशों में अपने उत्पादोंका निर्यात भी कर रहा है, जो इसके खाद्य उत्पाद बिक्री का 3.20 प्रतिशत हिस्सा है। जैसा कि इसके आरएचपी में वर्णत एफ एंड एस रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, बीकाजी आज 29,380 टन के वार्षिक उत्पादन के साथ बीकानेरी भुजिया का सबसे बड़ा उत्पादक है, और वित्त वर्ष 2022 में 9,000 टन की वार्षिक उत्पादन क्षमता के साथ हस्तनिर्मित पापड़ का दूसरा सबसे बड़ा नर्माता है। यह रसगुल्ला, गुलाब जामुन, और सोन पापड़ी सहित पैकेज्ड मिठाइयों का भारत के प्रमुख उत्पादकों में से एक है और भारत और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उभरती उपभोक्ता प्राथमिकताओं को संबोधित करने के लिए क्षेत्रीय स्वाद को बनाए रखने के साथ शास्त्रीय भारतीय स्नैक्स केसमकालीन स्वाद को विकसित और पुन: निर्मित करने में अग्रणी माना जाता है।
संचालन से बीकाजी का राजस्व वित्त वर्ष 2022 में 22.90 प्रतिशत बढक़र 1610.96 करोड़ रू. हो गया, जो कि वित्त वर्ष 2021 में 1310.75 करोड़ रू. था। यह मुख्य रूप से खाद्य उत्पादों की बिक्री और मात्रा में वृद्धि और उत्पादों की प्राप्ति, विशेष रूप से, भुजिया, नमकीन, पापड़, वेस्टर्न स्नैक्स औरपैकेज्ड मिठाई के कारण था, जबकि वित्त वर्ष 22 में इसका शुद्ध लाभ 76.03 करोड़ रू. रहा। 30 जून, 2022 को समाप्त तीन महीनों के लिए,परिचालन से राजस्व रू 419.16 करोड़ और शुद्ध लाभ 15.70 करोड़ रू. रहा। जेएम फाइनेंशियल लि., एक्सिस कैपिटल लि., आईआईएफएल सिक्योरिटीज लि., इंटेंसिव फिस्कल सर्विसेज प्रा. लि. और कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी लि. इस निर्गम के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

Related posts:

निसान इंडिया ने शुरू किया ‘रेड वीकेंड्स’
नीलकंठ द्वारा आईवीएफ बेबीज कार्निवल 16 को
पेरिस ओलंपिक की शॉटगन टीम में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी उदयपुर की महेश्वरी चौहान
बालकों ने की गणेश-स्तुति
नारायण सेवा में स्वतंत्रता दिवस
विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर 15 दिवसीय कार्यक्रमों का समापन
भाजपा महिला मोर्चा ने की कन्हैयालाल के परिजनों से भेंट
लोकजन सेवा संस्थान ने मनाया 73वां भारत स्काउट गाईड स्थापना दिवस
‘साल भर का राशन फ्री’ योजना का शुभारंभ
अरूण मिश्रा हिन्दुस्तान जिंक के नये उपमुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त
Zinc Kaushal Kendra’s Youth Step towards a brighter future with Group Placements in renowned organiz...
पीटीआई राव के ट्रांसफर से भावुक हुआ बेदला गांव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *