पिम्स हॉस्पिटल में कॉर्डियोलॉजिस्ट की मदद से बिना ओपन हार्ट सर्जरी के ह्रदय का छेद बंद किया गया

उदयपुर। पेसिफिक इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, पिम्स हॉस्पिटल, उमरड़ा में चिकित्सकों ने बिना ओपन हार्ट सर्जरी के ह्रदय का छेद बंद कर बड़ी उपलब्धि हासिल की है।
पिम्स के चैयरमेन आशीष अग्रवाल ने बताया कि पिम्स हॉस्पिटल में चिकित्सकों ने एक बच्चे के बिना चीरफाड़ कि ह्रदय का छेद बंद किया है। बच्चे का इलाज चिरंजीवी योजना के तहत निशुल्क किया गया। डॉ. महेश जैन और उनकी टीम ने ह्रदय में जन्मजात छेद (एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट) को बंद करने के लिये एएसडी डिवाइस क्लोजर सर्जरी की। श्री अग्रवाल ने बताया कि सामान्यत: जन्म के कुछ महीने के बाद ह्रदय की दोनों मुख्य धमनियोंं के बीच मार्ग स्वत: बंद हो जाता है लेकिन किसी-किसी केस में ऐसा नहीं होता और वह मार्ग खुला रह जाता है। इसे सामान्य भाषा में दिल में छेद होना तथा मेडिकल भाषा में एएसडी यानी एट्रियल सेप्टल डिफेक्ट कहा जाता है।
डॉ. महेश जेन ने बताया कि इस विकार से ग्रस्त लोगों को तेज चलने, सीढ़ी चढऩे के दौरान सांस फूलने, चक्कर आने, कमजारी महसूस होने की समस्या होती है तथा इनका शारीरिक विकास सामान्य लोगों की अपेक्षा कम होता है। एएसडी में डिवाइस क्लोजर तकनीक से दिल के छेद को बंद किया जाता है। एएसडी डिवाइस क्लोजर एक छतरीनुमा डिवाइस होता है जिसमें दो छतरियां तथा बीच में एक नलिकानुमा हिस्सा होता है। इसे एक नली के रूप में ह्रदय के छेद तक पहुंचाया जाता है।
सर्जरी और बाकी प्रक्रिया कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉ. महेश जैन, कॉर्डिक एनेथेस्टिक डॉ. विपिन सिसोदिया, सीटीवीएस सर्जन डॉ. विवेक रावत, नोनिवेसिव कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉ. उमेश स्वर्णकार ने की।

Related posts:

वेदांता उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का आगाज़ 7 फरवरी से
भाग्य दोषी नहीं, कर्मों का भुगतानः प्रशांत
108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ आज से
मीडिया शिक्षा के 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक
पीआईएमएस में दस माह के शिशु के दिल के छेद का सफल ऑपरेशन
हिंदुस्तान जिंक को एसएंडपी ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी ईयरबुक 2024 में शीर्ष 1 प्रतिशत  रैंकिंग
Kotak Mutual Fund launches new ad campaign that brings SIP to life, Introduces Mr. SIP!
MKM Football Tournament Concludes its 44thEdition in #ZincCity in a nail-biting finale - Doon Star F...
108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ की तैयारियां जोरों पर
Sunstone’s advantage now available at Mewar University
एमबी हॉस्पिटल की कायाकल्प के लिए संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट फिर दिखे एक्शन मोड में
जनजाति कल्याण योजनाओं की समीक्षा बैठक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *