लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ ने किया महाराणा स्वरूपसिंहकालीन हकीकत बहिडाें का विमोचन

उदयपुर : महाराणा मेवाड़ चेरिटेबल फाउण्डेशन (Maharana Mewar Charitable Foundation) के न्यासी और मेवाड़ राजपरिवार के सदस्य डॉ. लक्ष्यराजसिंह मेवाड़ (Dr. Lakshyaraj Singh Mewar) ने महाराणा स्वरूपसिंह कालीन (Maharana Swaroop Singh period) पांच भागों में प्रकाशित हकीकत बहिडाें (Haqiqat Bahidaen) (ऐतिहासिक ग्रंथों) का विमोचन सिटी पैलेस (City Palace) में किया । इस अवसर पर डॉ. लक्ष्यराजसिंह ने कहा कि मेवाड़ के 70वें एकलिंग दीवान महाराणा स्वरूपसिंह (ई.स. 1842 से 1861) का जीवन-व्यक्तित्व प्रभु भक्ति से भी परिपूर्ण था। उनका शासनकाल प्रजाहित में समर्पित रहा। उनके समय में भी मेवाड़ का चहुमुखी विकास हुआ। महाराणा के आदेश से नया स्वरूपशाही सिक्का जारी कर व्यापार को व्यवस्थित किया। समाज में फैली कई कुरीतियों को दूर किया गया। महाराणा स्वरूपसिंह के समय के इन बहिड़ों पर महाराणा मेवाड़ अनुसंधान केन्द्र और महाराणा मेवाड़ हिस्टोरिकल पब्लिकेशन्स ट्रस्ट लगभग 4 वर्षों से अधिक समय तक काम किया गया। महाराणा ने कई मन्दिरों का निर्माण करवाया और कई प्राचीन मन्दिरों का जीर्णोद्धार भी करवाया। महाराणा स्वरूपसिंहकालीन तैयार किए इन बहियों के पांच भाग हैं, जिनमें कुल 2533 पृष्ठों के साथ ही कई यादगार, ऐतिहासिक श्वेत-श्याम, रंगीन चित्रों का समावेश किया गया है। पुस्तक में महाराणा के व्यक्तित्व और कृतित्व का ऐतिहासिक लेखन इतिहसविद डॉ. गिरीशनाथ माथुर द्वारा किया गया है। इसका उद्देश्य मेवाड़ के गौरवशाली इतिहास का संरक्षण-संवर्धन करना है। यह पुनीत कार्य आगे भी जारी रहेगा।

Related posts:

पिम्स में मरीज के फेंफड़े में हरी फफूंद का सफल इलाज
जयपुर में राज्यस्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री ने किया मोबाइल वेटरनरी इकाइयों का लोकार्पण
बुजुर्ग बोझ नहीं हमारी संपत्ति है : रामनाथ कोविन्द
ओसवाल सभा की कार्यपरिषद की प्रथम बैठक में लिए महत्वपूर्ण निर्णय
कोरोना शिखर से शून्य
एचडीएफसी बैंक 9 दिसंबर को राष्ट्रीय ‘रक्तदान अभियान’ का आयोजन करेगा
आकाश बायजू द्वारा उदयपुर ने वृक्षारोपण अभियान 
खोड़निया द्वारा मटकी फोड़ कार्यक्रम में महिला टीम का उत्साहवर्धन
सिटी पेलेस उदयपुर में दीपोत्सव व विशेष पूजा-अर्चना
मुकेश कलाल ने संभाला आबकारी अधिकारी का पदभार
रेडियो के डॉक्टर है उदयपुर के भूपेन्द्र मल्हारा
दिवेर युद्ध विजय: वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप के जीवन का सबसे गौरवमय व स्वर्णिम पृष्ठ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *