साह पॉलीमर्स लि. का आरंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव 30 दिसंबर को खुलेगा

प्रति इक्विटी शेयर मूल्य बैंड 61 रुपये से 65 रुपये निर्धारित किया गया

उदयपुर। मुख्य रूप से पॉलीप्रोपाइलीन (पीपी)/हाई डेंसिटी पॉलीथीन (एचडीपीई) फ्लेक्सिबल इंटरमीडिएट बल्क कंटेनर (एफआईबीसी) बैग, बुने हुए बोरे,एचडीपीई/पीपी के बुने हुए कपड़े, पॉलीमर आधारित बुने हुए उत्पाद के निर्माण और बिक्री में लगी हुई साह पॉलीमर्स लि. ने अपने पहले सार्वजनिक प्रस्ताव के लिए मूल्य बैंड 61 रुपये से 65 रुपये प्रति इक्विटी शेयर तय किया है। कंपनी का आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ या प्रस्ताव) निवेश के लिए 30 दिसंबर, 2022 को खुलेगा और 04 जनवरी 2023 को बंद होगा। निवेशक न्यूनतम 230 इक्विटी शेयरों के लिए और उसके बाद 230 इक्विटी शेयरों के गुणकों में बोली लगा सकते हैं। प्रति इक्विटी शेयर 10 रुपया अंकित मूल्य वाले सार्वजनिक निर्गम 102,00,000 इक्विटी शेयरों का नया निर्गम है, जिसमें बिक्री घटक के लिए कोई प्रस्ताव नहीं है।
साह पॉलीमर्स का नेतृत्व असद दाउद कर रहे हैं और यह पेशेवर रूप से हाकिम सादिक अली टिडिवाला और मुर्तजा अली मोती द्वारा समर्थित हैं, जिनका एफआईबीसी पैकेजिंग क्षेत्र मेंलगभग 20 वर्षों का अनुभव है। कंपनी कृषि कीटनाशकों, बुनियादी दवाओं, सीमेंट, रसायन, उर्वरक, खाद्य उत्पादों, कपड़ा, चीनी मिट्टी की चीजें और स्टील सहित विभिन्न प्रकार के उद्योगों में व्यापार-से-व्यवसाय (बी2बी) उत्पादकों के अनुरूप थोक में पैक करने का लिए समाधान प्रदान करती है। कंपनी अपने उत्पादों को अमेरिका, यूके, ऑस्ट्रेलिया, यूएई, अफ्रीका, फ्रांस और पोलैंड सहित 14 देशों को निर्यात करती है। कंपनी की अधिकांश बिक्री निर्यात से होती है। 30 जून, 2022 को समाप्त 3 महीनों के लिए और वित्त वर्ष 2022 के लिए, कंपनी के परिचालन से प्राप्त कुल राजस्व में निर्यात का योगदान क्रमश: 57.61 प्रतिशत और 55.14 प्रतिशत रहा। नेट-वर्थ पर रिटर्न 16.42 प्रतिशत है और 2022 को समाप्त वर्ष में कर के बाद लाभ मार्जिन 5.39 प्रतिशत था। कंपनी की बिक्री वित्त वर्ष 2020 में 49.90 करोड़ रुपये थी, जो वित्त वर्ष 22 में बढक़र 81.23 करोड़ रुपये हो गई है। जून 2022 को समाप्त तिमाही में बिक्री 27.59 करोड़ रुपये रही। इस प्रकार पिछले तीन पूर्ण वर्षों के लिए बिक्री सीएजीआर 27.6 प्रतिशत है। इसी तरह, कर-पश्चात मुनाफा, यानी कंपनी का पीएटी पिछले तीन वर्षों में 284 प्रतिशत सीएजीआर के साथ बढ़ा है। कंपनी अपनी स्थापित क्षमता के 85 प्रतिशत से 92 प्रतिशत पर परिचालन करती है और इसलिए पूँजीगत व्यय बढ़ाने जा रही है। कुल पूँजीगत व्यय 33.81 करोड़ रुपये है, जिसमें से कंपनी नेहोल्डिंग कंपनी से 15.71 करोड़ रुपये ब्रिज ऋण के रूप में लिया है और आईपीओ की मंजूरी के दौरान उसका उपयोग किया है ताकि स्थापना के समग्र समय सीमा में देरी नहीं हो। वर्ष 2022-23 में ही इस नई परियोजना का वाणिज्यिक परिचालन शुरू करने का अनुमान है। वर्तमान विनिर्माण सुविधा (मेवाड़ औद्योगिक क्षेत्र, माद्री, उदयपुर, राजस्थान में स्थित) में कंपनी 500 किलोग्राम प्रति बैग / बोरी तक भरने की क्षमता वाले एचडीपीई/पीपी से बुने हुए बोरों और एफआईबीसी उत्पादों की एक विविध श्रृंखला का निर्माण करती है। कंपनी नई इकाई से 2,500 किलोग्राम तक भरने की क्षमता वाले एफआईबीसी उत्पादों के नए संस्करण का निर्माण करना चाहती है। नई इकाई की स्थापित क्षमता 3,960 मीट्रिक टन प्रति वर्ष है, जो वर्तमान क्षमता के बराबर है इसलिए नए संयंत्र के चालू होने पर कंपनी की क्षमता दोगुनी हो जाएगी।

Related posts:

वेदांता उदयपुर वल्र्ड म्यूजिक फेस्टिवल 7 से
वेदांता दिल्ली हाफ मैराथन के सहयोग में जिंक परिवार के 1600 से अधिक सदस्य बने प्रतिभागी
एचडीएफसी बैंक ने लॉन्च किया कस्टमाइज्ड प्रोग्राम ‘विशेष’
अपनी दरों में फिलहाल कटौती शुरू नहीं करेगा रिज़र्व बैंक : बरूआ
Hindustan Zinc will be among the best companies in world : Chairperson
देश को पानीदार बनाना है तो भूजल के डिस्चार्ज की तुलना में अधिक रिचार्ज करने के प्रबंध करने होंगे
दो दिवसीय ऑर्थोग्नेथिक वर्कशाप सम्पन्न
मैनकाइंड फार्मा बांझपन और गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताओं के लिए डाइड्रोजेस्टेरॉन विकसित करने वाली पहली...
महाराणा मेवाड़ फाउण्डेशन के 40वें सम्मान समारोह में डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने किया 65 विद्यार्थिय...
महेशचंद्र शर्मा सम्मानित
निसान 2020 में बिल्कुल नई और तकनीक से भरपूर स्टाइलिश एसयूवी लॉन्च करने जा रही है
जेके टायर ने अब तक का सबसे ज्यादा राजस्व दर्ज किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *